Mukhyamantri Suraksha Yojana 2024 | उत्तर प्रदेश में आवारा और जंगली जानवरों से फसलों की सुरक्षा के लिए सौर बाड़ लगाने की तैयारी | मुख्यमंत्री सुरक्षा योजना

Mukhyamantri Suraksha Yojana:- उत्तर प्रदेश का कृषि विभाग फसलों को आवारा और जंगली जानवरों से बचाने के साधन के रूप में मुख्यमंत्री सुरक्षा योजना (सोलर फेंसिंग) लागू करने की योजना बना रहा है। इस पहल में खेतों के चारों ओर तार लगाना शामिल है, जिसमें 12 वोल्ट का करंट होता है जो जानवरों को खेतों में प्रवेश करने से रोकने के लिए एक मजबूत लेकिन गैर-हानिकारक झटका प्रदान करता है।

Mukhyamantri Suraksha Yojana
Mukhyamantri Suraksha Yojana
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

मुख्यमंत्री सुरक्षा योजना

संपूर्ण सौर बाड़ प्रणाली नवीकरणीय सौर ऊर्जा पर संचालित होगी और सरकार ने कुल लागत पर 60 प्रतिशत सब्सिडी की घोषणा की है। प्रस्ताव फिलहाल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के समक्ष प्रस्तुतिकरण के लिए तैयार किया जा रहा है। आवारा जानवर किसानों के लिए एक बड़ी चिंता का विषय रहे हैं और सरकार द्वारा उठाए गए पिछले उपाय अपर्याप्त साबित हुए हैं। जानवर अक्सर फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं, जिससे किसानों के सामने चुनौतियां बढ़ जाती हैं। जहां किसानों ने सुरक्षा के लिए कंटीले तार लगाने का सहारा लिया, वहीं मवेशियों को होने वाले नुकसान के कारण सरकार ने इस पर प्रतिबंध लगा दिया। हालाँकि, विकल्पों की कमी के कारण किसानों ने तार वाली बाड़ का उपयोग करना जारी रखा।

इस समस्या के समाधान के लिए सरकार फिलहाल मुख्यमंत्री खेत सुरक्षा योजना (सोलर फेंसिंग) पर ध्यान केंद्रित कर रही है। कृषि विभाग की ओर से एक विस्तृत प्रस्ताव तैयार किया गया है और जल्द ही इसे कैबिनेट की मंजूरी के लिए प्रस्तुत किया जाएगा। हिमाचल प्रदेश, राजस्थान और तमिलनाडु जैसे राज्यों ने इस प्रणाली पर शोध किया है और बड़े पैमाने पर इसे लागू किया है, और प्रस्ताव में प्रभावकारिता बढ़ाने के लिए इन राज्यों की सर्वोत्तम प्रथाओं को शामिल किया गया है।

बैटरी चालित सौर बाड़ प्रणाली स्थापित करने की लागत लगभग 1,43,000 रुपये प्रति हेक्टेयर है। सरकार का इरादा छोटे और सीमांत किसानों को योजना में उनकी भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए 60 प्रतिशत सब्सिडी प्रदान करने का है। योजना का पहला चरण बुन्देलखंड के उन सात जिलों में लागू किया जाएगा, जहां आवारा पशुओं की घटनाएं अधिक होती हैं। इस शुरुआती चरण के लिए लगभग 50 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया गया है।

परियोजना के तहत, किसानों को बैटरी, तार, खंभे, स्टार्टर, सौर पैनल, सायरन और अन्य आवश्यक उपकरण स्थापित करने होंगे। सरकार पूरे प्रोजेक्ट पर छूट देगी. सौर बाड़ लगाने की प्रणाली में एक दूसरे से औसतन 5 मीटर की दूरी पर क्षैतिज तारों की सात से नौ लाइनें लगाना शामिल है, जो जमीन के स्तर से 1.5 से 2.10 मीटर की ऊंचाई पर खंभों से जुड़ी होती हैं। प्रति हेक्टेयर लगभग 400 मीटर तार की बाड़ लगाने की आवश्यकता होगी।

इस योजना की एक प्रमुख विशेषता यह है कि यह आवारा जानवरों और किसानों की फसलों दोनों की सुरक्षा सुनिश्चित करती है। सौर बाड़ प्रभावी ढंग से जानवरों को नुकसान पहुंचाए बिना खेतों में प्रवेश करने से रोकती है। 12-वोल्ट करंट जानवरों या मनुष्यों के लिए हानिकारक नहीं है; इसके बजाय, यह एक मनोवैज्ञानिक निवारक बनाता है। इसके अतिरिक्त, जब कोई जानवर बाड़ के संपर्क में आएगा तो एक सायरन बजेगा, जो आस-पास के किसानों को सचेत करेगा और जानवरों को क्षेत्र से भागने के लिए प्रोत्साहित करेगा।


Scheme Name

Mukhyamantri Suraksha Yojana (Solar Fencing)
Objective Protecting crops from stray and wild animals
Funding 60% subsidy on the total installation cost
Cost Approximately Rs 1,43,000 per hectare
Eligibility Small and marginal farmers
Initial Implementation Seven districts in Bundelkhand, Uttar Pradesh
System Components Batteries, wires, poles, starters, solar panels, sirens, and more
Renewable Energy Entire system operates on solar energy
Deterrent Mechanism 12-volt current provides non-harmful jolt; psychological deterrent
Farmer Application Guidelines provided by the Uttar Pradesh government
Mukhyamantri Suraksha Yojana
Mukhyamantri Suraksha Yojana

Mukhyamantri Suraksha Yojana Important Links

Official Website

Click Here

Home Page

Click Here

Join our Telegram group

Click Here

Join our Whatsapp group

Click Here

Mukhyamantri Suraksha Yojana FAQs

Q. मुख्यमंत्री सुरक्षा योजना क्या है?

Ans. यह उत्तर प्रदेश में सौर बाड़ का उपयोग करके आवारा और जंगली जानवरों से फसलों की रक्षा करने की एक योजना है।

Q. सोलर फेंसिंग कैसे काम करती है?

Ans. सौर बाड़ लगाने में जानवरों को खेतों में प्रवेश करने से रोकने के लिए गैर-हानिकारक विद्युत प्रवाह वाले तार स्थापित करना शामिल है।

Q. क्या किसानों के लिए वित्तीय सहायता उपलब्ध है?

Ans. हां, सरकार सौर बाड़ लगाने की कुल लागत पर 60% सब्सिडी प्रदान करती है।

Q. मुख्यमंत्री सुरक्षा योजना प्रारंभ में कहाँ लागू की जाएगी?

Ans. पहला चरण उत्तर प्रदेश के बुंदेलखण्ड के सात जिलों में लागू किया जाएगा।

Q. सोलर फेंसिंग लगाने में कितना खर्च आता है?

Ans. किसानों को प्रति हेक्टेयर लगभग 1,43,000 रुपये की सब्सिडी प्रदान की जाती है।

Q. क्या करंट जानवरों या इंसानों के लिए हानिकारक है?

Ans. नहीं, उपयोग किया जाने वाला 12-वोल्ट करंट गैर-हानिकारक है, एक मनोवैज्ञानिक निवारक बनाता है।

Q. सिस्टम किसानों को कैसे सचेत करता है?

Ans. जब कोई जानवर बाड़ के संपर्क में आता है तो सायरन बजता है, जिससे आस-पास के किसान सतर्क हो जाते हैं।

Leave a Comment